बुधवार, 26 अप्रैल 2017

भारतीय काव्यशास्त्री एवं उनकी कालजयी कृतियां

भारतीय काव्यशास्त्री एवं उनकी कालजयी कृतियां (कालक्रमानुसार)
                                                             
 1. भरत                                 2री शती ई॰ पूर्व से 2री शती ई॰ पू॰ के बीच (अनुमानतः)
कालजयी कृति :  नाट्यशास्त्र (नाट्यविधानों का अमर विश्वकोश)
रस-सम्प्रदाय के प्रवर्तक
तत्र विभावानुभावव्यभिचारी संयोगात्द्रस-निष्पत्ति। —नाट्यशास्त्र, भरत
भवति जगति योग्यं नाटकं प्रेक्षकाणम्। —नाट्यशास्त्र

2. भामह                                  छठी शती का मध्यकाल          
            कालजयी कृति : काव्यालंकार  
अलंकार-सम्प्रदाय के प्रवर्तक
            शब्दार्थौ सहितौ काव्यम्। —काव्यालंकार, भामह
            न कान्तिमपि नर्मूषं विभाति वनितामुखम्—काव्यालंकार, भामह

 3. दण्डी                               7वीं शती का उत्तरार्द्ध                          
कालजयी कृतियां : काव्यदर्श (काव्यशास्त्र विषयक), दशकुमारचरित,
अवन्तिसुन्दरी (गद्यकाव्य)                                 अलंकारवादी आचार्य
काव्यशोभाकरान् धर्मान् अलंकारान् प्रचक्षते। —काव्यादर्श, दण्डी।
नैसर्गिकी च प्रतिभा श्रुत बहुनिर्मलम्। —काव्यादर्श, दण्डी।
शरीरं तावदिष्टार्थ व्यवछिन्ना पदावली। —काव्यादर्श, दण्डी।

4. वामन                                8वीं-9वीं शती के बीच  
कालजयी कृति : काव्यालंकारसूत्रावृत्ति
रीति सम्प्रदाय के प्रवर्तक, रीति को काव्य की आत्मा माननेवाले
सौन्दर्यमलंकारः। — काव्यालंकारसूत्रावृत्ति, वामन
कवित्वबीजं प्रतिभानम्। — काव्यालंकारसूत्रावृत्ति, वामन
सादृश्यलक्षणाः वक्रोक्तिः। — काव्यालंकारसूत्रावृत्ति, वामन
विशिष्ट पद रचना रीतिः। — काव्यालंकारसूत्रावृत्ति, वामन
रीतिरात्मा काव्यस्यः। — काव्यालंकारसूत्रावृत्ति, वामन
काव्य शोभायाः कर्तारौ गुणाः। — काव्यालंकारसूत्रावृत्ति, वामन

5. उद्भट                                9वीं शती का पूर्वार्द्ध     
कालजयी कृतियां : काव्यालंकारसारसंग्रह, भामह-विवरण, कुमारसम्भव

 6. रुद्रट                                9वीं शती का आरम्भ    
कालजयी कृतियां : काव्यालंकार
ननु शब्दार्थौ काव्यम्।—काव्यालंकार, रुद्रट

7. भट्ट लोल्लट          उद्भट और अभिनव गुप्त के बीच
भरत के रस सूत्र के प्रथम व्याख्याकारउत्पत्तिवाद या उपचयवाद, आरोपवाद

8. शंकुक                                 9वीं शती का आरम्भ
            भरत के रस सूत्र के द्वितीय व्याख्याकारअनुमितिवाद या अनुकृतिवाद

9. आनन्दवर्द्धन                   9वीं शती का मध्यभाग
 कालजयी कृति : ध्वन्यालोक
ध्वनि को काव्य की आत्मा माननेवाले और ध्वनि-सम्प्रदाय के प्रवर्तक

 10. रुद्र भट्ट                       10वीं शती
कालजयी कृतियां : काव्यालंकार, श्रृंगार तिलक

11. राजशेखर         880-920 के बीच
कालजयी कृतियां : काव्यमीमांसा, बालरामायण, कर्पूरमंजरी (प्राकृत)
कारयित्री भावयित्रयावितीमे प्रतिभाभिदे।—काव्यमीमांसा, राजशेखर
अभ्यासः इति मंगलः। —काव्यमीमांसा, राजशेखर

12.  मुकुल भट्ट                   9वीं-10वीं शती           
कालजयी कृतियां : अभिधावृत्तिमातृका

13. धनंजय              10वीं शती
कालजयी कृतियां : दशरूपक (नाट्यशास्त्र पर टीका)

14. भट्ट नायक                                    10वीं शती का मध्यकाल                      
भरत के रस सूत्र के तृतीय व्याख्याकार
भुक्तिवाद या भोगवाद और साधारणीकरण
‘भावकत्वम् साधारणीकरणम्’ (भट्ट नायक)

15.  अभिनवगुप्त               10वीं-11वी शती        
कालजयी कृतियां : ध्वन्यालोक की टीका लोचनऔर नाट्यशास्त्र की टीका अभिनवभारती
भरत के रस सूत्र के चतुर्थ व्याख्याकारअभिव्यक्तिवाद

16.  कुन्तक  10वीं-11वीं शती        
कालजयी कृति : वक्रोक्तिजीवित
वक्रोक्ति सम्प्रदाय के प्रवर्तक 
शब्दार्थौ सहितौ वक्रकवि व्यापार शालिनी।—कुन्तक

17. सागरनन्दी        11वीं शती का आरम्भ 
कालजयी कृतियां : नाटकलक्षणरत्नकोश

18. भोजराज           11वीं शती का पूर्वार्द्ध  
कालजयी कृतियां : सरस्वती कण्ठाभरण, श्रृंगारप्रकाश

19. महिम भट्ट                     11वीं शती का मध्यकाल
कालजयी कृति : व्यक्तिविवेक

20. क्षेमेन्द्र                            11वीं शती का उत्तरार्द्ध
कालजयी कृतियां : औचित्यविचारचर्चा, सुवृत्ततिलक, कविकण्ठाभरण 
औचित्य सम्प्रदाय के प्रवर्तक

21. मम्मट                             11वीं शती का उत्तरार्द्ध
कालजयी कृति : काव्यप्रकाश
तद्दोषौ शब्दार्थौ सगुणावलंकृती पुनः क्वापि। —काव्यप्रकाश, मम्मट
शक्ति कवित्वबीजरूपः संस्कारविशेषः। —काव्यप्रकाश, मम्मट

22.  हेमचन्द्र                                    12वीं शती                  
कालजयी कृति : काव्यानुशासन

23. रामचन्द्र-गुणचन्द्र       12वीं शती का पूर्वार्द्ध   
कालजयी कृति : नाट्यदर्पण

24. वाग्भट्ट प्रथम                12वीं शती का पूर्वार्द्ध   
कालजयी कृति : वाग्भटालंकार

25.  रुय्यक                          12वीं शती का मध्यकाल
कालजयी कृति : अलंकारसर्वस्व

26. अमरचन्द्र        13वीं शती का मध्यभाग
कालजयी कृति : काव्यकल्पलतावृत्ति

27. जयदेव               13वीं शती का मध्यभाग           
कालजयी कृति : चन्द्रालोक

28. शारदातनय                  13वीं शती का मध्यभाग           
कालजयी कृति : भावप्रकाश    

29. विद्याधर                        13वीं-14वीं शती                     
कालजयी कृति : एकावली

30. विद्यानाथ                      13वीं-14वीं शती
कालजयी कृति : प्रतापरुद्रयशोभूषण   

31. विश्वनाथ                        14वीं शती                              
कालजयी कृति : साहित्यदर्पण
वाक्यम् रसात्मकम् काव्यम्। —साहित्यदर्पण, विश्वनाथ
प्रज्ञानवनवोन्मेषशालिनी प्रतिभा मता। —साहित्यदर्पण, विश्वनाथ
काव्यस्य शब्दार्थौ शरीरम्। —साहित्यदर्पण और काव्यमीमांसा

32. भानुमिश्र                     13वीं-14वीं शती
कालजयी कृतियां : रसतरंगिणी, रसमंजरी

33. रूपगोस्वामी                14वीं-15वीं शती
कालजयी कृति: उज्ज्वलनीलमणि

34. केशव मिश्र                   14वीं शती      
कालजयी कृतियां : अलंकारशेखर, तर्कभाष्य

35. अप्पयदीक्षित                16वीं-17वीं शती
कालजयी कृतियां : कुवलयानन्द, वृत्तिवार्तिक, चित्रमीमांसा

36. पंडितराज जगन्नाथ     16वीं-17वीं शती                     
कालजयी कृति : रसगंगाधर
रमणीयार्थ प्रतिपादकः शब्दः काव्यम्। — रसगंगाधर, पंडितराज जगन्नाथ

37. अकबरशाह                  17वीं शती का मध्यभाग           
कालजयी कृति : श्रृंगारमंजरी

विविध
1. पतंजलि—महाभाष्य,                     
2. यास्कनिरुक्त
3. रुद्र भट्ट श्रृंगारतिलक,
4. वात्स्यायनकाम-सूत्र,            
5. धनिकदशरूपक अवलोक

रस और उनके स्थायी भाव
रतिश्रृंगार            
हासहास्य  
उत्साहवीर          
अमर्ष, क्रोधरौद्र
भयभयानक        
विस्मयअद्भुत    
शोककरुण                  
जुगुप्सावीभत्स
निर्वेदशान्त

रससूत्र के व्याख्याता
भट्ट लोल्लट       (प्रथम व्याख्याकार)                   उत्पत्तिवाद या उपचयवाद
शंकुक              (द्वितीय व्याख्याकार)                  अनुमितिवाद या अनुकृतिवाद    
भट्टनायक         (तृतीय व्याख्याकार)                   भुक्तिवाद
अभिनवगुप्त      (चतुर्थ व्याख्याकार)                   अभिव्यक्तिवाद

भारतीय काव्यशास्त्र : यू जी सी प्रश्नोत्तरी
           
1.   करुण रस का स्थायी भाव है—शोक                                     (J-1991)
2.  निर्वेद किस रस का स्थायी भाव है—शोक                              (J-1992)
3. रस की संख्या 8 किसने मानी है? भरत                                   (A-1994)
4.  विभाव में प्रधान है— भाव                                                     (A-1995)
5.  संचारी भावों की संख्या है— (A) 9     (B) 33 (C) 16 (D) 99 (D-2009)
6.  अलंकारों को काव्य का शोभाकारक धर्म किसने माना—दण्डी (J-2007)
7. अलंकार-सम्प्रदाय के प्रवर्तक या संस्थापक आचार्य—भामह    (J-2013)
8. वक्रोक्ति सम्प्रदाय के विरोधी आचार्य—विश्वनाथ                       (J-2013)

9. कारयित्री प्रतिभा और भावयित्री प्रतिभा का विभाजन करनेवाले आचार्य—राजशेखर
(J-2013)         
10.       रौद्र                        अमर्ष, क्रोध  
अद्भुत                  विस्मय
वीभत्स                   जुगुप्सा
शान्त                      निर्वेद                                                  (S-2013)
11. भक्ति को रस रूप में प्रतिष्ठित करने वाले आचार्य हैं—
(।) मधुसूदन सरस्वती    (C) जीव गोस्वामी
(C) वल्लभाचार्य             (D) रूप गोस्वामी                                                          (J-2007)
12. रुद्रट वक्रोक्ति को शब्दालंकार मानते हैं, इसे अर्थालंकार किसने माना है—
(A) दण्डी          (B) क्षेमेन्द्र         (C) वामन          (D) आनन्दवर्धन                        (D-2006)

काव्य-लक्षण—
शब्दार्थौ सहितौ काव्यम् (भामह, 6वीं सदी)                     (J-2006, J-2008, J-2011, S-2013)
तददौषो शब्दार्थौ सगुणावलंकृती पुनः क्वापि (मम्मट, 11वीं सदी)
(J-2006, J-2008, D-2008)
वाक्यं रसात्मकं काव्यम (विश्वनाथ, 14वीं सदी)
(J-2006, J-2008, D-2008, D-2010,  J-2011)
रमणीयार्थ प्रतिपादकः शब्दः काव्यं (पण्डितराज जगन्नाथ, 16वीं सदी)
(J-2006, J-2008, D-2008, J-2009, D-2010, J-2011)
‘सत्त्वोद्रेकाद खण्ड स्वप्रकाशानन्द चिन्मयः।        द्यान्तरस्पर्शशून्यो ब्रह्मसहोदरः।
कोत्तर चमत्कार प्राणः कैश्चित्प्रमातृभिः।   स्वाकारवद भिन्नत्वेनायमास्वाद्यते रसः।’ —                                                                                                   आचार्य विश्वनाथ (J-2012)
ननु शब्दार्थौ काव्यम्                  (रुद्रट, 9वीं सदी)           (D-2008)
शब्दार्थौ सहितौ वक्रकवि व्यापार शालिनी (कुन्तक)          (D-2008)
सौन्दर्यमलंकारः (वामन)                                                (D-2010)       
वागार्थाविव सम्पृक्तौ वागर्थप्रतिपत्तये (कालिदास) (D-2010)
‘सुखदुःखात्मको रसः’—रामचन्द्र गुणचन्द्र                       (A-1994)
‘भावकत्वम् साधारणीकरणम्’ (भट्ट नायक)                     (J-1991)
शरीरं तावदिष्टार्थ व्यवछिन्ना पदावली (दण्डी)                    (J-2011)
नाट्यशास्त्र (भरतमुनि, 2वीं सदी)                                   (J-2011)
काव्यालंकार (भामह, 6वीं सदी)             (J-2006, D -2010, J-2011)
काव्यालंकारसूत्रवृत्ति (वामन, 8वीं सदी)                           (J-2006)
काव्यालंकारसूत्रवृत्ति      (वामन, 8-9वीं सदी)                  (J-2011)
ध्वन्यालोक (आनन्दवर्धन, 9वीं सदी)        (J-2006, J-2005 D-2006, D -2010)
दशरूपक (धनंजय, 10वीं सदी)                                     (J-2011)
वक्रोक्तिजीवितम् (कुन्तक, 10-11वीं सदी)                                  (J-2009)
काव्यप्रकाश (मम्मट, 11वीं सदी)                        (D-2006, J-2009, D-2010, J-2011)
काव्यानुशासन (हेमचन्द्र, 12वीं सदी)                                          (J-2005, D -2010)
साहित्यदर्पण (विश्वनाथ, 14वीं सदी)                                            (J-2005, J-2009)
रसमंजरी (भानु मिश्र, 14-15वीं सदी)                                          (J-2005)
उज्ज्वल नीलमणि (रूपगोस्वामी, 15वीं सदी)                               (J-2005, D-2008)
रसगंगाधर (पण्डितराज जगन्नाथ, 16-17वीं सदी)                         (J-2006, J-2005, D-2006,                                                                                                     (J-2009, J-2012, D-2011)
काव्यमीमांसा (राजशेखर, 880-920 के बीच), ध्वन्यालोकलोचन (अभिनवगुप्त, 10वीं-11वीं शती), सरस्वती कण्ठाभरण (भोजराज, 11वीं शती का पूर्वार्द्ध), नाट्यदर्पण (रामचन्द्र-गुणचन्द्र, 12वीं शती का पूर्वार्द्ध)                                                                           (S-2013)
रसमंजरी (भानु मिश्र, 14-15वीं सदी), श्रृंगारप्रकाश (भोजराज 11वीं शती का पूर्वार्द्ध), व्यक्तिविवेक (महिम भट्ट 11वीं शती का मध्यकाल), चित्रमीमांसा (अप्पयदीक्षित 16वीं-17वीं शती)                                                                                                                         (J-2013)         
रससूत्र के व्याख्याता आचार्य और उनके सिद्धान्त काल-क्रमानुसार —
(1) भट्ट लोल्लट (8वीं सदी)—उत्पत्तिवाद
(J-2005, D-2005, D -2006, D -2009, J-2010, J-2012, D-2012)
(2) शंकुक (9वीं सदी)—अनुमितिवाद  (J-2005, D-2005, D-2006, J-2007, D-2009,                                                 J-2010, J-2012, D-2012, J-1990, J-2011, S-2013)
(3) भट्ट नायक (10वीं सदी)—भुक्तिवाद
(J-2005, D-2005, D -2006, J-2010, J-2012, D-2012)
(4) अभिनवगुप्त (11वीं सदी)—अभिव्यक्तिवाद (J-2005, D-2005, D-2006, D-2009,                                          J-2010, J-2012, D-2012, A-1995, J-1990, J-1991)
कौन रससूत्र के व्याख्याता नहीं हैं? शंकुक, भट्ट लोल्लट, वामन, अभिनवगुप्त (D-2011)
साधारणीकरण (भट्ट नायक)                                           (D-2009, J-2010)
काल-क्रम—
दण्डी (7वीं सदी), आनन्दवर्धन (9वीं सदी), क्षेमेन्द्र (11वीं सदी)
आनन्दवर्धन (9वीं सदी), अभिनवगुप्त (10वीं सदी), विश्वनाथ (14वीं सदी),
जगन्नाथ (16वीं सदी)
भरत (2वीं सदी), भामह (6वीं सदी), कुन्तक (10वीं सदी), जगन्नाथ (16वीं सदी)
 (D-2004)
भरतमुनि (2वीं सदी)भामह (6वीं सदी), अभिनवगुप्त (10वीं सदी), विश्वनाथ (14वीं सदी)                                                                                                 (D-2011)
भामह (6वीं सदी), क्षेमेन्द्र (11वीं शती का उत्तरार्द्ध), विश्वनाथ (14वीं सदी), पण्डितराज जगन्नाथ (16वीं सदी)                                                                       (D-2012)
भामह (6वीं सदी), कुन्तक (10वीं सदी), रूप गोस्वामी (15वीं सदी), पण्डितराज जगन्नाथ (16वीं सदी)                                                                                (D-2010)
भरतमुनि (2वीं सदी), आनन्दवर्धन (9वीं सदी), विश्वनाथ (14वीं सदी), जगन्नाथ (16वीं सदी)                                                                                                 (J-2012)
भामह (6वीं सदी), दण्डी (7वीं सदी), आनन्दवर्धन (9वीं सदी), अभिनवगुप्त (10वीं सदी)                                                                                                    (J-2013)
दण्डी (7वीं सदी), मम्मट (11वीं शती), जयदेव (13वीं शती), विश्वनाथ (14वीं सदी)                                                                                                         (J-2013)
भरतमुनि (2वीं सदी)भट्ट लोल्लट      (उद्भट और अभिनव गुप्त के बीच), शंकुक (9वीं शती का आरम्भ), भट्ट नायक (10वीं शती का मध्यकाल)                    (S-2013)

एकांकी में अन्विति अथवा संकलनत्रय के अन्तर्गत काल, स्थान के साथ किसके निर्वाह की गणना की जाती है?
(A) पात्र (B) कार्य (C) प्रकरी (D) पताका

इनमें से कौन अनुभाव का एक भेद है?
(A) निर्वेद (B) व्रीड़ा
(C) उन्माद (D) आहार्य

इन उक्तियों को उनके आचार्यों के साथ सुमेलित कीजिए :
सूची-1                          सूची-2
(A) शब्दार्थ शरीरं ताबत् काव्यम्                        (i)  भामह
(B) काव्यं ग्राह्यम अलंकारात्                              (ii) मम्मट
(C) मुख्यार्थहतिर्दोषः         (iii) विश्वनाथ
(D) करोति कीर्तिं प्रतिं च साधु काव्य निबन्धनम्   (iv) वामन
                                                                        (v) दण्डी
कूट :
            a          b          c          d
(A)       i           ii          iii         iv
(B)       v          iv         ii          i
(C)       ii          iii         iv         v
(D)       v          iv         iii         ii

भारतीय काव्यशास्त्र में रसगत दोषों की संख्या कितनी मानी गई है?
(1) 5  (2) 10
(3) 25 (4) 20

निम्नलिखित में से कौन-सा भेद स्वकीया नायिका का भेद नहीं है?
(1) मध्या  (2) मुग्धा
(3) प्रौढ़ा (4) वासकसज्जा
ध्वनि सिद्धान्त के आचार्य हैं :
(1) आनन्दवर्धन  (2) वामन
(3) मम्मट (4) विश्वनाथ

नाट्यशास्त्र से संबंद्ध निम्नलिखित ग्रंथों का सही अनुक्रम है :
(1) भाव प्रकाशन, दशरूपक, नाट्यदर्पण, अभिनव भारती
(2) नाट्यदर्पण, दशरूपक, भाव प्रकाशन, अभिनव भारती
(3) दशरूपक, अभिनव भारती, नाट्यदर्पण, भाव प्रकाशन
(4) अभिनव भारती, दशरूपक, नाट्यदर्पण, भाव प्रकाशन

भारतीय काव्यशास्त्र में रसगत दोषों की संख्या कितनी मानी गई है?
(1) 5  (2) 10
(3) 25 (4) 20

fuEufyf[kr esa ls dkSu&lk dFku vkpk;Z fo'oukFk dk ugha gS\\
¼1½ jl v[k.M gS      ¼2½ jlLoizdk'k gS
¼3½ jl oS|kUrjLi'kZ 'kq: gS     ¼4½ jl vius vkdkj ls fHkUu :i esa vkLokfnr fd;k tkrk gSA
39¯ ^/oU;kyksd* fdl 'krkCnh dk xzaFk gS\
¼1½ lkroha 'krkCnh     ¼2½ vkBoha 'krkCnh
¼3½ ukSoha 'krkCnh       ¼4½ X;kjgoha 'krkCnh

fuEufyf[kr jpukdkjksaa dks mudh jpukvksa dG lkFk lqesfyr dhft, % 
        lwphµI          lwphµII
¼a½ jleatjh      ¼i½ jkepUnz&xq.kpUnz
¼b½ Hkkoizdk'ku    ¼ii½ #nzV
¼c½ lkfgR; niZ.k   ¼iii½ HkkuqnÙk
¼d½ ukV~lniZ.k    ¼iv½ 'kkjnk ru;
                ¼v½ fo'oukFk
dÕV %
        ¼a½ ¼b½ ¼c½ ¼d½
¼1½      ¼i½ ¼ii½ ¼iii½ ¼iv½
¼2½      ¼iii½ ¼iv½ ¼v½ ¼i½
¼3½      ¼iv½ ¼iii½ ¼ii½ ¼v½
¼4½      ¼v½ ¼i½ ¼iv½ ¼iii½

jlfu"ifÙk dG lanHkZ esa mRifÙkokn dk fl)kUr fdldk gS\
¼1½ HkV~VyksYyV            ¼2½ HkV~V 'kadÔdr
¼3½ HkV~V uk;d        ¼4½ vfHkuo xqIr
thoudky dG vuqlkj fuEufyf[kr dkO;fpUrdksa dk lgh vuqØe gS % 
¼1½ vfHkuo xqIr] fo'oukFk] iafMrjkt txUukFk] vkuUno)Zu
¼2½ fo'oukFk] iafMrjkt txUukFk] vkuUno)Zu] vfHkuo xqIr]
¼3½ vkuUno)Zu] vfHkuo xqIr] iafMrjkt txUukFk] fo'oukFk
¼4½ iafMrjkt txUukFk] fo'oukFk] vkuUno)Zu vfHkuo xqIr
 जहाँ सामानार्थक विशेषणों से प्रस्तुत के वर्णन द्वारा अप्रस्तुत का बोध कराया जाय, वहाँ कौन-सा अलंकार होता है?
(1) समासोक्ति   (2) सहोक्ति
(3) विनोक्ति        (4) व्यक्तिरेक
जब वक्रोक्ति वक्ता की कंठ ध्वनि पर आश्रित होती है तब उसे क्या कहा जाता है?
(1) सभंग श्लेष वक्रोक्ति    (2) vभंग श्लेष वक्रोक्ति
(3) काकुवक्रोक्ति           (4) प्रहेलिका
निम्नलिखित में से कौन-सा ग्रंथ भामह का है ?
(1) काव्यालंकार (2) काव्यादर्श
(3) ध्वन्यालोक     (4) साहित्यदर्पण
नाटक के कथानक के कुछ दृश्य सूच्य होते हैं। पाँच प्रकार के इन सूच्य कथानकों का सही अनुक्रम  है :  
(1) प्रवेशक, अंकास्य, विष्कम्भक, चूलिका, अंकावतार
(2) अंकावतार, चूलिका, अंकास्य, विष्कम्भक, प्रवेशक
(3) विष्कम्भक, प्रवेशक, चूलिका, अंकास्य, अंकावतार
(4) चूलिका, अंकास्य, विष्कम्भक, प्रवेशक अंकावतार,
निम्नलिखित सिद्धान्तों को उनके सिद्धान्तकारों के साथ सुमेलित कीजिए: 
            सूची-I                            सूची-II
(a)        वक्रोक्ति सिद्धान्त (i) क्षेमेन्द्र
(b)        रीति सिद्धान्त      (ii) आनन्दवर्द्धन
(ब)        औचित्य सिद्धान्त  (iii) कुन्तक
(d)        ध्वनि सिद्धान्त      (iv) वामन
                                    (v) भरत
कोड  :
            (a) (b) (c) (d)
(1)        (iii) (iv) (ii) (v)
(2)        (i) (ii) (iii) (iv)
(3)        (iii) (iv) (i) (ii)
(4)        (v) (i) (ii) (iii)

संकलन

@ मुहम्मद इलियास हुसैन